Home / ताज़ा ख़बरें / स्कूल में बच्चे की हत्या

स्कूल में बच्चे की हत्या

सात साल का प्रद्युम्न की हत्या और वो भी स्कूल में ।रेयान वाले शिक्षा माफिया हैं, गुरुकुल जैसे शब्द को खुद से जोड़कर अपने पापों को छिपाते हैं। ज़िम्मेदार सरकार में अगर थोड़ी भी इंसानियत बची है तो रेयान का सभी ट्रस्टी को पहले गिरफ्तार करे। ये एक बच्चे की हत्या नहीं इंसानियत का कत्ल है और किसी भी प्रकार का लॉजिक बेमानी है। ये शिक्षा माफिया संवेदनहीन हो चुके हैं, ये अंगूठा नहीं गर्दन काटते है और इनके साथ वैसा ही वर्ताव होना चाहिए। डंडा मारकर इनसे पुछताझ करनी चाहिए वरना ये सुनेंगे कहाँ। अरबों के मालिक लोग हैं क्या पता विदेश भाग लिए हों। लेकिन कानून के सामने सब नतमस्तक होते हैं। हरामी बाबाओं को कानून जब जेल भेज सकती है तो ये माफिया ट्रस्टी क्या चीज़ हैं। कानून का डंडा चलना चाहिए फिर राजनीतिक पहुंच भी काम नहीं आने वाली। अभी एक कंडक्टर को हत्यारे के रूप में इनोहने सामने किया है ये एक और गुंडागर्दी है। पहले ट्रस्टी गिरफ्तार हो और सारे ट्रस्टी गिरफ्तार हों फिर CBI जांच हो और सारे कमीनों का कुंडली की जांच हो। बात एक माँ के कोख उजड़ने की है, एक बाप के पैरों के नीचे की ज़मीन खिसकने की है और हर माँ बाप के अंदर डर पैदा हो चुकने की है। बिना किसी बहस के ट्रस्टी दोषी है और उसका कानूनी ईलाज ज़रूरी है । अपने बच्चों के लिए इंकलाब ज़रूरी है वर्ना इंसानियत के दुश्मन खंज़र लिए खड़े हैं।