Home / अनूप कुमार का ब्लॉग / तीन तलाक बना मीना की मौत

तीन तलाक बना मीना की मौत

फिल्म के जानकार और तीन तलाक पर आई सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जो लिखा जा रहा है उसमें एक महत्वपूर्ण कहानी मशहूर अदाकारा मीना कुमारी का भी है। मीना कुमारी ने तीन तलाक के साथ हलाला का भी दर्द झेला था और फिर शराब में डूबी थी।  महज 39  साल में ही इस मशहूर अदाकारा की मौत हो गयी। फिल्म पाकीज़ा के निर्देशक मीना कुमारी के सौहर थे और एकबार गुस्से में आकर तीन बार तलाक कह दिया तो तलाक हो गया।  बाद में पछतावा हुआ तो मुल्लों ने कहा कि बीबी को वापस लाने ले लिए हलाला करना होगा। कमाल अमरोही बिना मीना के नहीं रह सकते थे सो उनोहने अपने दोस्त अमान उल्ला खान से करा दी।  ये अमान उल्ला खान अदाकारा जीनत अमान के अब्बा जान थे। अब मीना कुमारी को नए सौहर के साथ हमबिस्तर होना पड़ा।  फिर अमान उल्ला ने अमरोही के साथ दोस्ती निभाई और मीना कुमारी को तलाक दे दिया।  मीना जी वापस पुराने सौहर कमाल अमरोही के पास आ गयीं लेकिन मज़हब के नाम पर जो कुछ मीना कुमारी को भोगना पड़ा उससे वो टूट गयीं और सबने उम्र से पहले मीना कुमारी को कब्र के हवाले होते देखा। अब जबकि इन तलाक पर फैसला आ गया है तो लोगों को लगता है कि ये फैसला इतनी देर से क्यों आया। सभी जानते हैं कि हिन्दुओं में सती प्रथा थी। पति की मृत्यु के बाद पत्नी को ज़िंदा उसी के साथ जला दिया जाता था। इतना क्रूर और आपराधिक प्रथा थी फिर भी उस प्रथा को जब कानूनी रूप से बंद किया गया तो उसका विरोध हुआ था। इसी तरह एकबार में तीन तलाक पर कानूनी प्रतिबन्ध लग चूका है , थोड़ा बहुत विरोध होगा लेकिन ये कानून समाज को बेहतर बनाएगा और लोगों के जीवन का हिस्सा बन जायेगा। बेगम रास्ते में आगे चल पड़ी तो गुस्से में सौहर अब तलाक तलाक तलाक नहीं कह पाएंगे और कहा भी तो उसका कोई मतलब नहीं होगा। औरतों को सुप्रीम कोर्ट ने एक बहुत बड़ी सुरक्षा दी है।